बीएमसी में 9 सीटों की बढ़ोतरी मामले में, उद्धव सरकार को हाईकोर्ट की तरफ से राहत

Published By Reporter on TAHELKA NEWS 08:41:15 10-12-2021

मुंबई : बॉम्बे हाईकोर्ट ने गुरुवार को महाराष्ट्र सरकार के मुंबई नगर निगम चुनाव से पहले 9 नए वार्ड बनाने के अध्यादेश पर अंतरिम रोक लगाने से इनकार कर दिया है. जज ए ए सैयद और जज अभय आहूजा की खंडपीठ ने 30 नवंबर के फैसले को चुनौती देने वाली बीजेपी के दो पार्षदों की याचिका पर महाराष्ट्र सरकार, चुनाव आयोग और बीएमसी को 21 दिसंबर तक जवाब में हलफनामा दाखिल करने का निर्देश दिया है. बता दें कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी द्वारा प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद राज्य के शहरी विकास विभाग ने 30 नवंबर को सीटों की संख्या 227 से बढ़ाकर 236 करने की अधिसूचना जारी कर दी थी.
राज्य मंत्रिमंडल ने 10 नवंबर को सीट बढ़ाने के निर्णय को मंजूरी दी थी और 16 नवंबर को राज्यपाल को उनकी मंजूरी के लिए फाइल भेजी गई थी. जिस पर राज्यपाल ने इसे 29 नवंबर को मंजूरी दे दी थी. और अगले ही दिन अधिसूचना जारी कर दी गई थी. बीजेपी पार्षद अभिजीत सामंत और राजश्री शिरवाडकर का प्रतिनिधित्व करने वाले वरिष्ठ वकील मिलिंद साठे ने कहा कि अध्यादेश मनमाना, अवैध, अन्यायपूर्ण और संवैधानिक जनादेश और महाराष्ट्र नगर निगम (एमएमसी) अधिनियम के प्रावधानों के विपरीत है. उन्होंने कहा कि बिना किसी ‘मात्रात्मक डेटा या नवीनतम जनगणना जनसंख्या डेटा उपलब्ध’ के नगरपालिका पार्षदों की संख्या में वृद्धि की गई है.
उन्होंने आगे कहा कि अध्यादेश 2011 की जनगणना के आंकड़ों पर आधारित है. चूंकि ये आंकड़े 10 साल से अधिक पुराने हैं, इसलिए 2011 के जनसंख्या आंकड़ों के आधार पर एमएमसी अधिनियम में संशोधन करना अवैध है. याचिका में आगे कहा गया है कि जहां नवीनतम जनगणना के आंकड़ों के आधार पर अधिनियम में संशोधन किया जा सकता है, वहीं कोविड -19 महामारी के कारण इस पर काम को निलंबित किया गया है. साठे ने कहा कि 2012 और 2017 के नगर निकाय चुनावों के लिए 2011 की जनगणना के अनुसार वार्डों की संख्या पहले ही बढ़ा दी गई थी और इसलिए उसी जनगणना का उपयोग नौ वार्डों को बढ़ाने के लिए आधार के रूप में नहीं किया जा सकता है.
उन्होंने यह भी कहा कि मात्रात्मक आंकड़ों के बिना, यह नहीं माना जा सकता है कि शहर की आबादी में वृद्धि हुई है, जिसे महामारी के दौरान भी कम किया जा सकता था और इस तरह का निर्णय लेने से पहले इसका पता लगाया जाना चाहिए. अदालत से 30 नवंबर के अध्यादेश को रद्द करने और रद्द करने का अनुरोध करने के अलावा, याचिकाकर्ताओं ने सुनवाई लंबित रहने तक इसके कार्यान्वयन पर रोक लगाने की भी मांग की है. बीजेपी विधायक अमीत साटम ने भी राज्य सरकार के फैसले के खिलाफ याचिका दायर की है. वहीं अदालत ने 30 नवंबर के फैसले पर तत्काल अंतरिम रोक लगाने से इनकार कर दिया और 22 दिसंबर को अगली सुनवाई के दौरान राज्य की स्थिति स्पष्ट करने के लिए महाधिवक्ता आशुतोष कुंभकोनी को नोटिस भी जारी किया है.

  • Facebook Page